फांसी देने से पहले जल्लाद कान में बोलता है ये शब्द, सुनते ही थर-थर कांपते हैं अपराधी

Babulal.rajbohra Sun May 05 2019

अपराधी जब अपराध करता है, तो उसे इस बारे में यह नहीं मालूम होता है, कि उन्हें सजा क्या मिलेगी आज मैं आपको बताऊंगा, जब किसी व्यक्ति को किसी बड़े कोर्ट में जज के द्वारा फांसी की सजा दी जाती है, तो जज सजा सुनाने के पश्चात पेन की निब क्यों तोड़ देता है। कि मैं अपने फर्ज के आगे मजबूर हूं। इसके आगे जल्लाद कहता है, मैं आपको सच्चाई के रास्ते पर चलने की कामना करता हूं। अपराधी के कान में यह बोलते हैं जल्लाद लीवर को खींच लेता है और अपराधी फांसी के फंदे पर लटक जाता है और दुनिया छोड़कर चला जाता है।

This article represents the view of the author only and does not reflect the views of the application. The Application only provides the WeMedia platform for publishing articles.
Powered by WeMedia